Sharadiya Navratri 2021 व्रत से पहले करें ये उपाय

Sharadiya Navratri 2021: हिन्दी पंचांग के अनुसार शारदीय नवरात्रि अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से प्रारंभ होकर नवमी तिथि को समाप्त होती है और दशमी तिथि को विजय दशमी मनाई जाती है। विजय दशमी को दशहरा भी कहा जाता है।

साल 2021 में नवरात्रि का पर्व 7 अक्टूबर से शुरू हो रहा है। 9 रातों के 9 दिनों में माँ दुर्गा के नए रूपों की पूजा की जाती है। प्रचुर मात्रा में लोग माँ दुर्गा की कृपा पाने के लिए 9 दिनों तक उपवास भी रखते हैं।

नवरात्रि शुरू होने से पहले माँ दुर्गा के भक्तों को ये 3 काम जरूर करने चाहिए। धार्मिक मान्यता है कि इन कार्यों को करने के बाद नवरात्रि का व्रत करने से माँ दुर्गा की कृपा मिलती है। माँ की कृपा से व्यक्ति धनवान बन सकता है और उसकी सभी मनोकामनाएँ पूरी होती हैं। आइए जानते हैं ये 3 बातें:-

Sharadiya Navratri 2021 व्रत से पहले करें ये उपाय
Sharadiya Navratri 2021 व्रत से पहले करें ये उपाय

नवरात्रि व्रत से पहले करें ये उपाय

Navratri से पूर्व करना लेना मकान का साफ–सेनेटरी:-7 अक्टूबर से शुरू होंगी नवरात्रि, इससे पहले श्रद्धालु अपने घर की अच्छी तरह से सफाई कर लें। नवरात्रि में साफ-सफाई का बहुत ही महत्त्वपूर्ण स्थान है। इसके लिए इसका ख्याल रखना बेहद जरूरी है। धार्मिक मान्यता है कि जिन घरों में साफ-सफाई का ध्यान रखा जाता है, वहाँ माँ दुर्गा का वास होता है।

Navratri का पूर्व इंस्टालेशन लोग स्थान का करना साफ–सेनेटरी:-घटस्थापना नवरात्रि के पहले दिन की जाती है। नवरात्रि से पहले जिस स्थान पर घटस्थापना की जाती है उसकी सफाई की जाती है। वहाँ गंगाजल छिड़क कर उस स्थान को शुद्ध किया जाता है।

जरूरी द्वार पंख स्वस्तिक एन एस निशान अंकित करना:-स्वस्तिक का हिंदू धर्म में उच्च स्थान है। हर शुभ और शुभ कार्य में स्वस्तिक चिह्न बनाकर भी इसकी पूजा की जाती है। स्वास्तिक बहुत ही शुभ और शुभ होता है। इसलिए नवरात्र शुरू होने से पहले घर के मुख्य द्वार पर स्वास्तिक का निशान बना लें। यह निशान पूरे नौ दिन तक रहना चाहिए।

2 thoughts on “Sharadiya Navratri 2021 व्रत से पहले करें ये उपाय”

  1. Pingback: कपूर से नकारात्मक ऊर्जा कैसे दूर करें? वास्तु शास्त्र के अनुसार KAPUR
  2. यह जानकारी योग्य हैं इस जानकारी को पढ़कर आपको इस कंटेंट से रिलेटेड कुछ मन में उठने वाले सवालों का जवाब जरूर मिल गया होगा। वैसे देखा जाए तो आजकल हर भाषा मैं समझने में सहूलियत होती है। जैसे कि “संस्कृत से हिन्दी ट्रांसलेशन” संस्कृत हिन्दी टू संस्कृत ट्रांसलेट कैसे करें आदि जानकारी आप पढ़ सकते हैं।

    Reply

Leave a Comment