कार्तिक मास में स्नान करने की विधि, नियम और दान का महत्त्व। KARTIK MAHINA 2021

कार्तिक मास 2021 में श्री हरि विष्णु और माता लक्ष्मी की आराधना के साथ-साथ सूर्यपुत्र यम, धन्वंतरि, गोवर्धन, श्रीकृष्ण और भगवान चित्रगुप्त आदि की पूजा का भी बहुत महत्त्व है। इस महीने सभी देवी-देवता एक साथ पूजा करने से प्रसन्न होते हैं।

हिंदू शास्त्रों के अनुसार कार्तिक मास में व्रत, स्नान और दान का बहुत महत्त्व है। यह पाप का नाश करता है और सुख, शांति और मोक्ष की ओर ले जाता है। इस महीने में पवित्र नदी या जल निकायों में स्नान करने का महत्त्व दोगुना हो जाता है। महिलाएँ सुबह जल्दी उठकर स्नान करती हैं। यह स्नान कुंवारी या विवाहित महिला दोनों द्वारा किया जा सकता है।

कार्तिक मास नियम और दान का महत्त्व
कार्तिक मास नियम और दान का महत्त्व

कार्तिक मास का महत्त्व (Kartik mas ka mahto)

इस महीने में श्री हरि जल में निवास करते हैं। गंगा स्नान, दान, दीपदान, हवन, यज्ञ करने से स्वर्ग की प्राप्ति से पापों का नाश होता है। इस दिन व्रत का भी महत्त्व है, व्रत रखकर भगवान का स्मरण करने से अग्निष्टोम यज्ञ के समान फल मिलता है और सूर्यलोक की प्राप्ति होती है। कार्तिक पूर्णिमा से प्रारंभ होकर प्रत्येक पूर्णिमा को रात्रि में व्रत व जागरण करने से सभी मनोकामनाएँ पूर्ण होती हैं।

जहाँ स्नान लाभदायक (Kartik me esnaan)

तीर्थराज प्रयाग, अयोध्या, कुरुक्षेत्र और काशी कार्तिक स्नान के लिए सर्वोत्तम स्थान माने जाते हैं, प्राचीन काल में सरस्वती भी श्रेयस्कर मानी जाती थीं, जिनका प्रवाह कुरुक्षेत्र में माना जाता था। इनके अलावा पवित्र नदियों, तीर्थ स्थानों में स्नान करना शुभ होता है।

यदि आप इन स्थानों तक नहीं पहुँच सकते हैं, तो इन स्थानों और यहाँ बहने वाली नदियों का स्मरण करना भी लाभकारी होता है। इसके लिए खास तौर पर कहा गया है ‘ गंगे चा यमुना चैव गोदावरी सरस्वती “” नर्मदे सिंधु कावेरी जलेस्मिन सन्निधि कुरु”

स्नान के लिए मंत्र (Nahane ka matr)

आपस्तवमसी देवेश ज्योतिषी पतिरेव च।
पापं नशा में देव वामनः कर्मभिः कृतं।

पानी की ओर यह कह रहे हैं

दुक्खदरिद्रायणसय श्रीविष्णोस्तोशनाय सी.
सुबह स्नान करोम्याद्या माघे पापविनासनम।

कहा कि भगवान से प्रार्थना करनी चाहिए।
स्नान करने के बाद इस मंत्र का जाप करने से लाभ होता है।

सावित्रे प्रवेशत्रे चा परम धाम ने मामा को जला दिया।
त्वत्तेजस परिभ्रस्तं पापं यतु सहस्त्रधा।

ऐसे करें कार्तिक मास पूजा (Kartik puja)

इस महीने में तीर्थ पूजा, गंगा पूजा, विष्णु पूजा, लक्ष्मी पूजा और यज्ञ और हवन का महत्त्व है। चंद्रोदय के दिन इन छह कृतिकाओं, शिव, संभूति, संतति, प्रीति, अनुसूया और क्षमा की पूजा करनी चाहिए। इसी तरह तुलसी पूजन, सेवन और सेवा का भी बहुत महत्त्व है, कार्तिक में तुलसी पूजन का महत्त्व है।

ये पढ़ सकते हैं: धनतेरस पर लोग खरीदारी क्यों करते हैं? Dhanteras 2021 Jankari In Hindi

2 thoughts on “कार्तिक मास में स्नान करने की विधि, नियम और दान का महत्त्व। KARTIK MAHINA 2021”

  1. Pingback: अपने बच्चों के लिए पौराणिक नाम कैसे चुनें? जो सार्थक सिद्ध हो। Bachho Ke Liye Name - Gita God Gyan
  2. Pingback: दीपावली के दिन रखें विशेष ध्यान लक्ष्मी मूर्ति स्थापित करते समय। दिवाली 2021 - Gita God Gyan

Leave a Comment