अपने बच्चों के लिए पौराणिक नाम कैसे चुनें? जो सार्थक सिद्ध हो। Bachho Ke Liye Name

सभी माता-पिता चाहते हैं कि उनके बच्चे का नाम (Bachho Ke Liye Name) सबसे प्यारा और सबसे अच्छा हो, माता-पिता अपने बच्चों के लिए सबसे प्यारे नाम (Name) खोजने का हर संभव प्रयास करते हैं। कभी आप बच्चों के नाम की किताबें देखते हैं तो कभी Internet पर सर्च करने की कोशिश करते हैं। शिशुओं (Bachho) के लिए नाम चुनने के कई तरीके हैं, जिनमें से एक पौराणिक नामों को देखना है। जो सार्थक सिद्ध हो।

Bachho Ke Liye Name
Bachho Ke Liye Name

बच्चे के लिए पौराणिक नाम (Bachho Ke Liye Name)

1-अंजनेया:-हनुमान जी की माता का नाम अंजनी था, इसलिए उन्हें अंजनेय भी कहा जाता है। Anjaneya नाम का मतलब अंजनी का बेटा होता है। आज के समय में अंजनेया नाम बहुत ही अनोखा होगा और अगर आप अपने बेटे के लिए कोई दूसरा नाम खोज रहे हैं तो आप अंजनेया (Anjaneya) नाम चुन सकते हैं।

2-आतिश:-गणेश जी के अनेक नामों में से एक नाम आतिश भी है। भगवान गणेश को आतिश के नाम से भी जाना जाता है। Aatish नाम का मतलब एक गतिशील व्यक्ति, आतिशबाजी और शोर होता है।

3-अच्युत:-यह भी एक पौराणिक नाम है। अच्युत नाम का मतलब अविनाशी, अमर, कभी न मरने वाला होता है। भगवान विष्णु को Achyut के नाम से भी जाना जाता है।

अपने बच्चों के लिए नाम (Bachho Ke Liye Name)

4-दक्ष:-भगवान शिव को दक्ष के नाम से भी जाना जाता है। यदि आप एक बिल्कुल अलग नाम की तलाश में हैं, तो आपको Daksh नाम पसंद आ सकता है। दक्षश नाम का अर्थ भी बहुत प्यारा होता है। दक्षश नाम का अर्थ “दक्ष के स्वामी और एक राजा” है।

5-देवेश:-भगवान शिव के कई नामों में से एक नाम देवेश है। देवेश नाम बेबी बॉय के लिए भी काफी पसंद किया जाता है। देवताओं के राजा इंद्र को Devesh भी कहा जाता है।

6-केशव:-अगर आप भगवान कृष्ण को मानते हैं तो आपको यह भी पता होगा कि उनका एक लोकप्रिय नाम केशव भी है। यदि आपके पुत्र का नाम Keshav ‘क’ अक्षर से बना है तो आप उसका नाम केशव रख सकते हैं।

7-नकुल:-ये नाम भी बहुत प्यारा है। पांडु के एक पुत्र का नाम नकुल था। नकुल भले ही एक पौराणिक नाम हो लेकिन आज भी इस Nakul नाम को काफी पसंद किया जाता है।

इसे भी पढ़ें-अपने बच्चे का नाम कैसे रखें?

आपने ऊपर दी गई जानकारी Bachho Ke Liye Name को पढ़ा जो आप एक धार्मिक हिंदू पौराणिक हिसाब से आप अपने बच्चे का नाम रख सकते हैं। जो बहुत ही सार्थक होते हैं।

Read:- कार्तिक मास में स्नान करने की विधि, नियम और दान का महत्त्व

Leave a Comment